DAD ( the relation)


पिता  की  एहमियत 

पिता है तो जहान है 
पैरों की जमीन सर का आसमान है 
पिता है तो माँ का सुहाग है
जो परिवार की खुसी के लिए करता त्याग है
पिता है तो घर में रोटी है
उसके साथ हर मुश्किल छोटी हैँ
पिता है तो सारे सपने है
सारे बड़े बड़े ख्वाब अपने है
पिता है तो घर समन्दर है
उसके बिना हर घर बंजर है 
पिता है तो घर की नीब है
उसके बिना पूरी दुनिया अजीब है

होता है वो क्यों खुसनसीब जिनका जिनका आज बाप है
तू जा के उनसे पूछ ले जो आज भी अनाथ है
फ़कीर की लकीर में भी साथ उसका बाप है
तू जा के उनसे पूछ ले जो आज भी अनाथ है



पिता क्या है?
रागों में जिसका रक्त है
मिज़ाज जिसका सख्त है 
खुसी को पूरा करने में
लगाता जो न वक़्त है
( पिता का खून हमारी रगों में है और उनका मिज़ाज भी थोडा सख्त होता है वो अपना प्यार ज़ाहिर नहीं करते पर हमारी खुसी को पूरा करने में ज़रा भी वक़्त नहीं लगाते )

रात में चाँद सा दिन में किरणों सा
दुःख में बाँध सा खुसी में लहरों सा
कदम जो पढ़ता तपती धुप में 
बनता वो जूता औलाद के पैरों का 
( हर मुश्किल में हमेसा साथ खड़े रहते है जिस तरह रात में चाँद रहता है जिस तरह दिन में सूरज की किरणे, हमारी दुःख को कम करते है खुशियो को बढ़ाते है कोई भज मुश्किल काम नहीं करने देते और जिस तपती धुप में हमारे पैरो का जूता बन जाते है)

Na dikhata na jatata, ki kitna hai pyaar
Aulad ki choti si khusi bhi, uske liye tyohaar
Uski Cheek mein kapan, daat mein dar hota hai mehsus
Jab uske seene se, lagtu hu mein ek baar
(kabhi express nahi karte kabhi jatate nahi ki kitna pyaar karte hai or humari choti si khusi ko bhi festival ki tarah celebrate karte hai wo humpar chillate hai datte hai par unki cheek or daat mein jo kapan, dar, pyar hai wo jab hi mehsus hota hai jab wo seene se lga kar kehte hai  "beta aisa mat kiya kro")

Na khwaish wo rakhta, na shauk hai koye
Sari umar fikar ek, aulaad ki aankh na roye
Jo dekhe sapne usne, or kaise sapne khoye 
Mere na sapne toote, wo aise khwaab sanjoye
(jabse hum unki zindagi mein aye hai tabse hmari khwaish unki khwaish or hmare shauk unke shauk ho gye hain to unhi ko pura karne mein lgein rehte hain sari umar sirf ek hi fikar rehti hai ki kabhi humari aankhon mein aanshu na aye jaise unke sapne toote humare sapne na toote)

Aulaad or maa hai moti, tum bin bekaar
Tum ho dhaaga resham ka, mile to bane haar
Kismat ko badal ke, deta khusi apaar
Ek taraf hai pita,  or hai ek taraf sansaar
(hum bacche or maa motiyo ki tarah hai jo ki pita ke bina bekar hai or pita ek dhaaga hai jab dono milte hai to haar ban jate hai pita wo saksh hai jo kismat ko badal kar boht sari khusiya deta hai pita ki jagah puri duniya koi nahi le sakta)

pita hai to ghar, samandar hai
uske bina har ghar, banjar hai
pita hai to ghar ki, neebh hai 
uske bina puri duniya, ajeebh hai
(pita hai to ghar mein har cheez hai agar wo nahi to kuch bhi nahi ghar ek banjar jameen ki tarah hai pita se hi ghar ki neebh hoti hai agar wo nahi hota to puri duniya ajeeb lagti hai)

Popular posts from this blog

One sided '' LOVE ''

LIFE SAYS

CHOICE BECOME PRIORITY